Mohabbat ek Khushaboo hai – Latest Shayari
Home Attitude Shayari Mohabbat ek Khushaboo hai

Mohabbat ek Khushaboo hai

0
Mohabbat ek Khushaboo hai

सादगी मशहूर है हमारी,
खुशमिजाजी भी कमाल है।
हम शरारती भी इंतेहा के है,
तनहा भी बेमिसाल है…!!

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ चलती है..
कोई इंसान तन्हाई में भी तन्हा नहीं रहता.

नाराजगी इतनी बढ़ गयी है तेरे से कि,

अब तू चाय भी बना कर दे तो गले न उतरे !!

वो ढूढ़ रहे थे मुझे भूल जाने के तरीक़े
मैने ख़फ़ा होकर उनकी मुश्किले आसान कर दी…!!

सारी दुनिया के रूठ जाने से मुझे कोई दुःख नहीं,
बस एक तेरा खामोश रहना मुझको तकलीफ देता है ।।

❤️🙂

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से फ़राज़
एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला…!!

मोहब्बत करने वालों की कमी नहीं है दुनिया में,

अकाल तो निभाने वालों का पडा है साहब…!!

अपना हिस्सा कभी मांगकर देखो सारे रिश्तें बेनकाब हो जायेंगे,

और अपना हिस्सा छोडकर देखो सारे कांटे भी गुलाब हो जायेंगे…!!

इतनी मतलबी हो गई हैं मेरी आँखें,

कि इसे तेरे दीदार के बिना दुनिया अच्छी नहीं लगती …!!

अपनी जिंदगी में हिस्सा फिर किसी को ना दिया,
इश्क़ तेरे बिना भी मैनें बस तुझसे ही किया..💘💘

उसको जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ…
अब क्या कहें ये क़िस्सा पुराना भी बहुत हुआ…!!

कितनी छोटी सी;
दुनिया हैं मेरी…!!
एक मैं हूं,,,,
दूजी चाहत तेरी।

प्यार करना हर किसी के बस की बात नहीं …

जिगर चाहिए अपनी ही खुशियां बर्बाद करने के लिये…!!

सुकून और इश्क वो भी दोनो एक साथ..
रहने दो अब कोई अक्ल वाली बात करो..!

कल नाम था तेरा…किसी औऱ की जुबा पर… बात तो ज़रा सी थी पर दिल ने बुरा मान लिया…!!
Smile..😒😒
😞😞

पूरा दिन गुजर गया और तुमने याद तक ना किया मुझे नहीं पता था की इश्क़ में भी इतवार होता है…..😏😏


बिन तेरे ये इतवार भी बेरहम हो जाता है…
गुजर तो जाता है मगर गुजारा नहीं जाता…!!!

तू बन जा गली मेरे दिल की
मै मेरे अंत तलक भटकू तुझमे
ख्वाहिश..


फुर्सत किसे थी…
इश्क़ की इबारतें लिखने की……..!!

बस लम्हा लम्हा तुम पास आते गये..
और लम्हा लम्हा हम तुम्हें पाते गए…

ज़िन्दगी में तेरी यादों को भुला दूं कैसे…

रात बाकि है चिरागों को बुझा दूं कैसे…!!

सब नहीं करते…ना कर सकेंगे नशा शायरी का…..

ये तो वो ज़ाम है दोस्तो,,जो एहसासों के नवाब पीते हैं…!!


खुदा का शुक्र है की ख्वाब बना दिये,
वरना तुम्हे देखने की तो हसरत ही रह जाती…!!


चाहते थे बेशुमार…पर मिलने का वादा ना था….
प्यार तो उसे भी था…पर हमसे ज्यादा ना था…….!!

न जाने किस हुनर को शायरी कहते होंगे लोग..

हम तो वो लिख़ रहे हैँ, जो किसी से कह नहीं पाते….!!


बर्बाद होने के बहुत से तरीके थे,
लेकिन मैंने सिर्फ उसको चाहा !!

मोहब्बत की कोई क़ीमत नहीं इस दौर में लेकिन साहब…

तब भी तमाम उम्र तन्हा काट देते हैं
बहुत से लोग…..!!!


नजर बनकर इस कदर मुझको लग जाओ ,,,
कोई पीर की फूंक न पूजा न मन्तर काम आये ,,,,


बुरा नही हूँ मैं साहब……बस अब हर किसी को समझ नही आती मैं..!!!


किताब मेरी, पन्ने मेरे, और सोच भी मेरी
फिर मैने जो लिखे वो खयाल क्यो तेरे…..

बात अगर खयाल कि करें तो इतना ही कहेंगे….

तुम से जुडा़ हो तो हसीन और तुम्हारा हो तो बहेतरीन.. 🤗🤗

जरूरी नहीं की हर बात पर तुम मेरा कहा मानों,
दहलीज पर रख दी है चाहत, आगे तुम जानो..!!


मोहब्बत सरेआम नहीं… बस ,एहसास होना चाहिए.,
हम उन्हें चाहते हैं.. यह पता सिर्फ उन्हें होना चाहिए..।!

जितनी चाहत है उतने नाराज़ भी है हम ….

क्यो तेरे इंतज़ार में यहाँ आज भी है हम…!!


महकती रहेंगी ताउम्र वो मोहब्बत,

जो एक बार तुमसे कर चुके हैं हम….!!


दिल को बहुत चुभ रहा है तेरा यूं चले जाना….
बता इंतजार करूं या भूल जाऊं…..!!


बेबस बना रखा है किसी की यादों ने इस कदर
नींद तो आ रही है कम्बख्त ये दिल सोने नही देता….!!
Smile…😘😘


रात भी देर से आई……सुबहा भी देर से गई थी ,ये आपके जैसी नही है मेरे पास रुक गई थी…!!!


डरता हूं तुमसे कहने से तुमसे मोहब्बत हो रही है,
मेरी जिंदगी बदल देगा तेरा इनकार नहीं और इकरार भी।।


तुम्हारा चेहरा चराग़ों में कौन रखता है,
मेरी तरह तुम्हें आंखों में कौन रखता है..!!

बहुत से लोग तुम्हारे क़रीब हैं लेकिन,
मेरे सिवा तुम्हें यादों में कौन रखता है….!!!!


जुदाईयां जब मुकद्दर हैं,तो वफ़ा का वादा कैसा….

इश्क तो आखिर इश्क है कम कैसा ज्यादा कैसा…!!!


मेरी सादगी पसंद आये तो बात आगे बढ़ा लेना….
तुझे रिझाने की चालाकियां नहीं आतीं मुझे….!!!


ज़िन्दगी गुज़रेगी कितनी कहानी ले के,

जमीं में दफ़न है यादों की निशानी ले के…!!


मैंने देखा ही नहीं कभी “इश्क” दोबारा करके..

एक ज़िन्दगी में एक ही तजुर्बा काफी था बयां करने के लिए…!!


किसी ने आज मुझसे पूछा मुझसे
कहां रहते हो दिन भर…

मैंने भी बता दिया कि मुझे किसी ने अपने दिल में रहने की जगह दे दी है…!!


माना कि कभी दिल की बात ना बताओगे,
पर आँखों में जो है वो कैसे छुपाओगे,
वादा रहा ये हमारा तुमसे,
जब भी दिल में झाकोगे हमारी तस्वीर पाओंगे.


वो ढूंढ़ रहे थे मुझे भूल जाने के तरीके,
मैंने खफा होके उनकी मुश्किल आसान करदी।।


कितने बेबस हैं तेरी चाहत में..!

तुझे खो कर भी ,अब तक तेरे हैं.!

सुनो !!

तुम्हें पता भी नहीं चलेगा ..
और चंद बातों में ही तुम्हें मुझसे
कम्बख़्त इश्क़ हो जाएगा :)!!


मिलने आओ तो कभी बताऊ तुम्हें,…
इश्क़ कितना है जताऊं तुम्हें…अगर करो मुझसे वादा मरमह बनने का…ज़ख्म सब अपने दिल के दिखाऊ तुम्हें…!!


बच्चो का खाली बस्ता ना हो जाऊं…..

किसी शहर का वीरान रस्ता ना हो जाऊं…

औऱ मेरा एक ये भी तर्क है सबसे बात ना करने का….

मुझे डर है बहुत सस्ता ना हो जाऊं…!!!


ये जो तुम मेरी शायरियों के जवाब नहीं देते..!!
ये नफरत की निशानी है या प्यार हो जाने का डर…!!!


मेरे मुकद्दर में तो तेरी यादे है लेकिन….
तू जिसका मुकद्दर है जिन्दगी उसे मुबारक़…!!


मेरी ज़िंदगी की हक़ीक़त बस इतनी ही है….

अब वो मेरा नही ओर मैं किसी ओर की नही….


न जाने किस मिज़ाज का परिन्दा है यह दिल…
सीने मैं तो रहता है ….मगर वश में नहीं…!!


इश्क़ क्या है ?
लबों पे मीठी सी मुस्कान लिए तुम ;

इश्क़ क्या है ?
हर ख्वाब में मेरे रहने वाले तुम

इश्क़ क्या है ?
मेरी खामोशी को भी समझने वाले तुम ।

इश्क़ क्या है ?
मेरे लिखे हर लफ्ज़ में का मर्म तुम ।

इश्क क्या है ?
मेरे लिए तो सिर्फ तुम , और सिर्फ तुम l


मेरा होकर भी…मेरा न हो सका…
ऐ दिल… तुझ पर भी…हुकूमत उसी की है..


कुछ ऐसे लगाव और
चाहतें होती हैं की…

हाथों में हाथ नही होते… और
रूह से रूह बंधी होती है…


मेरे मुकद्दर में तो तेरी यादे है लेकिन….
तू जिसका मुकद्दर है जिन्दगी उसे मुबारक़….!!
Smile…..

बात तो सिर्फ जज़्बातों की है साहब….

वरना……

मोहब्बत तो सात फेरों के बाद भी नहीं होती..!!
Smile…..😒😒

वो कह कर गया था मैं लौटकर आउंगा…
मैं इंतजार ना करती तो क्या करती….

वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से…मैं एतबार ना करती तो भला क्या करती….!!!
😒😒sMile…🍫🍫

तुम्हे खैरात में मिल जायें हम वो नहीं !!
आरज़ू तभी पूरी होगी जब शिद्दत से चाहोगे …!!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here